Entertainment

काव्य संग्रह “चटकते कांच-घर”: एक अवलोकन

ख़त्म हुआ ईंटों के जोड़ों का तनाव / प्लास्टर पर उभर आई हल्की-सी मुस्कान / दौड़ी-दौड़ी चीटियाँ ले आईं अपना अन्न-जल / फूटने लगे अंकुर, जहाँ था तनाव वहाँ / होने लगा उत्सव / हँसी... हँसी... /हँसते-हँसते दोहरी हुई जाती है दीवार।~ नरेश सक्सेना "दरार"
Written by Desh Kapoor
Shares

 

235x96_top-indivine-postशब्द और दर्शन एक कवि की अभिव्यक्ति के सबसे महत्वपूर्ण सहयोगी होते हैं। अमित अग्रवाल जी की यह काव्य संग्रह “चटकते कांच-घर” उनके मन की संवेदना का एक दर्पण है। हिंदी में लिपटी उर्दू शायरी की शैली लेकर अमित जी ने कुछ गहरे विचारों से हमारा साक्षात्कार कराया है।

Amit Agarwal

Amit Agarwal

हर समाज में कविता बदलती और बहती अविरल धारा का एक प्रतिबिम्ब मात्र होता है।

कबीर ने अपने समय की सार्वजनिक भाषा में अपना दर्शन व्यक्त किया और आज का कवि और शायर आज की भाषा में अपनी अभिव्यक्ति खोजता है । बीते हुए कल का रोमांच हम सब को एक स्वपनलोक में ले जाता है, परन्तु जीवन प्रतिक्षण जिया जाता है। कल और आज का द्वंद्व अमित जी ने अपनी रचना “बेकार” में दर्शित किया है।

amitagg-puraanafurniture

दो पंक्तियों की “सर्दियों की धुप ” में अमितजी ने भारतियों के दिनचर्या से एक पहलु को ले अपने दिल का हाल सुना डाला।

amitagg-sardi ki dhoop

मुझे उनकी रचना “गन्दा नाला” बहुत अच्छी लगी, जहाँ वो संभवत: अपने ईश्वर या ईश्वर रुपी किसी मार्गदर्शक के प्रति अपना आभार प्रकट कर रहे हैं । अपने भीतरी विषाद और दुर्बलता को विनम्रतापूर्वक स्वीकारते हुए, अमितजी अपने ईश्वर्य मूर्ति के योगदान का धन्यवाद किया है।

amit-add-ganda naala

पर अमितजी अपने आलोचकों की कभी कभी की हुयी निरर्थक आलोचना से भी परिचित हैं। उनको बुरा न कह कर, उनकी इंसानियत का उलहाना दे रहे हैं। आलोचना तो कवि का गहना होती है, पर कई लोग कविता के उद्देश्य और भाव को छोड़ अपने दिल की बडास निकालने पर उतारू हो जाते हैं। उनके लिए अमितजी की रचना “आलोचकों के नाम” बहुत सार्थक है।

amitagg-aalochak

परिश्रम करना और अपनी कला में निपुण होना एक बात है, प्रसिद्धि का सौभाग्य होना दूसरी| हर वो लेखक  और कवि जो अच्छा है प्रसिद्ध नहीं होता। जब कोई भी रचयिता यह विडम्बना देखता है तो रो उठता है। इसी भाव को अमितजी ने “किस्मत” में प्रस्तुत क्या है।

amitagg-kismat

शब्दों में सहजता, विचारों में रवानी और समकालीन अभिव्यक्ति – यह अमित अग्रवाल जी के इस काव्य संग्रह की विशेषतायें हैं।

Shares

About the author

Desh Kapoor

The panache of a writer is proven by the creative pen he uses to transform the most mundane topic into a thrilling story. Desh - the author, critic and analyst uses the power of his pen to create thought-provoking pieces from ordinary topics of discussion. He writes on myriad interesting themes. Read the articles to know more about this charismatic writer.

%d bloggers like this:
/* ]]> */